बुधवार, 24 फ़रवरी 2010

ओ छो्रे! क्या कहने तेरे-"फ़कीरा" चिट्ठाकार चर्चा मे (ललित शर्मा)

रेल चली भाई रेल चली--छुक-छुक रेल चली-देश मे विद्यार्थियों का सरोकार रेल से पड़ता है गांव से शहर पढने जाते हैं, बडे शहरों मे लोकल ट्रेन चलती है जिसमे सभी तरह के लोग सवारी करते है. दूर की यात्रा तो सबको करनी पड़ती है........लेकिन ट्रेन में सुविधाओं के नाम पर लुट खसोट मची रहती है....आज रेल मंत्री ममता बनर्जी बजट लेकर आ रही हैं...देखना है यात्री सुविधाओं के नाम पर वो क्या लेकर आती हैं अपने पिटारे में...किसके लिए कितनी सुविधा और किस प्रदेश को नई गाड़ियों की सेवा के उपहार से नवाजती हैं.........अब मै ललित शर्मा आपको ले चलता हूँ आज के चिट्ठाकार चर्चा पर................

चर्चा में शामिल हमारे आज के चिट्ठाकार हैं......यशवंत मेहता "फकीरा" .....इनकी प्रोफाइल पर तीन चिट्ठे दिख रहे हैं...फ़कीरा का कोना, युग क्रांति तथा YOUNG INDIAN SAY .इन चिट्ठों पर ये लिखते हैं. गीत गजल भी कहते हैं.लेकिन इनकी रचनाओं के शीर्षक कुछ अलग ही होते है..मसलन "बेशरम लाल भगंदर वाले बन्दर" इनके ब्लाग युग क्रांति पहलों पोस्ट बुधवार, ६ जनवरी २०१० की दिखाई पड़ती है. सामाजिक सरोकार के मुद्दों को अपने मंच से उठाते हैं. इनका खिलंदड़ा पन मन को भाता है. इनकी खाते में एक अर्ध टांकी रोहण भी उपलब्धियों के रूप में चढ़ा हुआ है. और भी बहुत सारी पोस्ट इन्होने लिखी है. हम कामना करते हैं कि निरंतर लेखन से ब्लाग जगत को समृद्ध करते रहे.........
अपनी प्रोफाइल पर लिखते हैं........................

यशवन्त मेहता "फ़कीरा"

मेरे बारे में

दिल वालो के शहर दिल्ली का रहने वाला हूँ. दिल्ली विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त करी हैं और दिल्ली विश्वविद्यालय से बहुत प्रेम हैं. हरियाली से विशेष लगाव हैं. बारिश में जब हरा सोना खिलता हैं तो मन आनंदित हो जाता हैं. अनुभवी जनों और बुद्धिजीवियो का साथ अच्छा लगता हैं. चाय पीना ,बच्चन की मधुशाला को बार-बार पढना भी, बच्चों से बातें करना और उनके संग बच्चा बन जाना भाता हैं .गरीबों और मासूमों पर जब अत्याचार होता हैं तो बुरा लगता हैं.
युग क्रांति से इनकी पहली पोस्ट 

बुधवार, ६ जनवरी २०१०


मेरे हिंदी प्रेम की कहानी

यह पल मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं जब मैं हिंदी ब्लॉग जगत में कदम रख रहा हूँहिंदी हमेशा से दिल के करीब रही हैं परन्तु यह मेरा दुर्भाग्य हैं कि दसवी कक्षा के बाद हिंदी पढने का मौका ही नहीं मिला स्नातक में गणित का साथ पकड़ लिया

आज भी मुझे महाविद्यालय का प्रथम दिन याद हैं जब किसी ने मुझसे अपने विषय को हिंदी में बोलने को कहामैंने तत्काल ही उत्तर दिया --- स्नातक(वरिष्ट) गणित प्रथम वर्ष, वो पल ऐसा था जिसमे मुझे अपने हिंदी पढने पर गर्व हुआ । उसी पल मन में ठान ली कि स्नाकोतर करूँगा तो सिर्फ हिंदी में अन्यथा नहीं, परन्तु यह संकल्प तब समय के साथ दिल के किसी कोने में गुम हो गया और स्नाकोतर में भी गणित के दुसरे रूप का साथ पकड़ लिया

बचपन में जनसत्ता के दर्शन होते थे कोमल मन जनसत्ता को कहाँ से समझ पाता सो माताजी ने हमारे लिए चम्पक लगवा दी वो भी अंग्रेजी मेंचम्पक को पढना और भार्गव के हिंदी-अंग्रेजी कोश के पन्ने पलटना बहुत अच्छा लगा क्यूंकि अंग्रेजी ज्ञान में बढ़ोतरी हो रही थी और नित नयी कहानिया भी पढने को मिल रही थीहमारी अंग्रेजी तो अच्छी हो ही रही थी और हिंदी का एक नया संसार भी बन रहा था मन के भीतर अपने आप रचित हो रहा था

युग क्रांति से अद्यतन पोस्ट...

मंगलवार, २३ फरवरी २०१०


ताऊ उत्पाद उत्पात ख़तम कैप्सूल

ताऊ जी अपने उत्पाद के सफल प्रयोग कर रहे हैं और प्रयोगशाला बन गए हैं समीर लाल. मार्केटिंग करते हुए ताऊ जी असली बातें तो छुपा गए. बोले तो "ताऊ जी उत्पादों  के उत्पात". हमने तो पकड़ लिए "ताऊ जी उत्पादों  के उत्पात" और उसका इलाज भी ले आये हैं. अब आप बिना किसी भय के ताऊ उत्पादों का जम कर इस्तेमाल करें और ताऊ उत्पादों के उत्पात से जब परेशान हो जाये तो  इलाज के लिए हमारा उत्पाद इस्तेमाल करें.हम पेश करते हैं अपने ताऊ उत्पाद उत्पात ख़तम कैप्सूल की सफलता की एक झलक.......
 जैसा कि आप जानते हैं कि ताऊ ने अपने उत्पादों का प्रयोग समीर लाल जी पर किया और उनका प्रभाव भी समीर लाल जी पर दिखा. वो गोरे हो गए और पतले भी हो गए. 

Thursday, October 29


YOUNG INDIAN SAY--- An Attempt

Young Indian Say is an attempt. It is an attempt to change. It is an attempt to bring revolution. It is an attempt to present thoughts of a common Indian youth. 

Wednesday, January 6


Jahapanah Tussi Great ho ---- Ye Post Kabool ho

 3I was anticipated as most awaited film of 2009 by film critics and media. It has supported the theory by its record-breaking collections in just 10 days. Chetan Bhagat, Aamir Khan, Raju Hirani and Vidhu Vinod Chopra --- all of these persons are legend in their own league. Chetan accused VVC for lifting story from his novel “Five point someone” and not giving appropriate credit for the story. VVC shouted and then apologized for his nonsensical behavior with media. Aamir Khan also gave interviews defining Chetan’s protest as a cheap attempt to get publicity.

3 Idiots and FPS have a common base which reveals the drawbacks of our education system. We always prefer a number game. “Viruses” sitting around us clap only when report card shows 90-90. They cannot appreciate when a child create a painting of his dreams. They cannot throw a party when a child wants to click photographs of butterflies.
फकीरा का कोना से.......... 

सोमवार, २२ फरवरी २०१०


तेरे हुस्न ने मोहब्बत को मेरे दिल का पता दिया -------- (फ़कीरा)

तेरे हुस्न ने मोहब्बत को मेरे दिल का पता दिया 
मेरी उलझी जिन्दगी को तेरी उलफ़त ने सुलझा दिया

तेरी मोहब्बत के आफ़ताब ने हर सुबह को खिला दिया 
मेरी दीवानगी के माहताब ने हर रात को शायराना बना दिया 

रुख से नक़ाब की बेवफ़ाई ने मुझे तेरा दीदार करा दिया
ज़हे-नसीब कि कुदरत ने  फिर इक कोहिनूर बना दिया

तेरी अदा ने शोले को शबनम बना दिया 
इश्क में इमां-ओ-दीं गया , तूने "फ़कीरा" बना दिया

अब देते हैं चर्चा को विराम............आप सभी को ललित शर्मा का राम-राम

11 टिप्पणियाँ:

गिरीश बिल्लोरे 'मुकुल' ने कहा…

jai


ho


khoob


achchhaa


likhe


ho

Suman ने कहा…

nice.........................................

Mithilesh dubey ने कहा…

यशवन्त तो है ही बड़े लाजवाब आदमी , मेरी तो इनसे मुलाकात भी हो चुकी है, आपका आभार इनसे मिलवानें के लिए ।

Vivek Rastogi ने कहा…

वाह बहुत खूब मजा आ गया

राजीव तनेजा ने कहा…

अरे!...यशवंत जी तो अंग्रेजी के भी पर कतरते हैं...इनकी शरण में जाना ही पड़ेगा ...

बहुत बढ़िया लिखते हैं यशवंत जी...

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…

आदरणीय ललित भाई नमस्कार
ताऊ जी कौन सा उत्पाद बना रहे हैं
आज उत्पाद शुल्क दिवस है
उनके उत्पादों पर भी शुल्क वसूलना पड़ जाएगा

Udan Tashtari ने कहा…

वाह जी वाह!! फकीरा से ऐसे मिल कर मजा आया..बहुत बढ़िया...आभार ललित भाई.

RaniVishal ने कहा…

waah! bhadiya post likhi hai ..aapako dhanywaad!
Saadar

यशवन्त मेहता "फ़कीरा" ने कहा…

फ़कीरा की चर्चा करने के लिये आभार
सभी का प्रेम बरसता रहें फ़कीरा पर

'अदा' ने कहा…

bahut hi badhiya...
badhaii..

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

.... धमाकेदार परिचय !!!